जिनके स्वामित्व बहुत होता है उनके पास डरने को बहुत कुछ होता है । – रविन्द्रनाथ टैगोर

जिनके स्वामित्व बहुत होता है उनके पास डरने को बहुत कुछ होता है । – रविन्द्रनाथ टैगोर