मैं हूँ धरती और तुम हो गगन कैसे होगा अपना मिलन

मैं हूँ धरती और तुम हो गगन कैसे होगा अपना मिलन