हर कोई लफ़्हज़ों से घायल है कोई तन्हाई से तो कोई महफिलों से तंग है

हर कोई लफ़्हज़ों से घायल है कोई तन्हाई से तो कोई महफिलों से तंग है